गंजापन दूर करना है तो करें यह योग

1060

ganjapan
माण्डुकी मुद्रा

मुखं संमुद्रितं कृत्वा जिह्वामूलं प्रचालयेत्। शनैर्ग्रसेदमृतं तां माण्डूकीं मुद्रिकां विदुः ॥६२॥
वलितं पलितं वैव जायते नित्ययौवनम्। न केशे जायते पाको यः कुर्यान्नित्यमाण्डुकीम् ॥६३॥ श्रीघेरण्डसंहिता |
माण्डूकी मुद्रा की विधि :

सुखपूर्वक किसी आसन में बैठकर अपने मुंह को बंद कर लें । आँखें बंद रहें एवं रीढ़ की हड्डी सीधी रहे
जीभ को पूरे तालू के ऊपर दाएं-बाएं और ऊपर-नीचे घुमाएं।
जीभ को इस तरह से घुमाने के फलस्वरूप उत्पन्न लार का पान करें (निगलते रहें) योग शास्त्र में इस लार को सुधा या अमृत की संज्ञा दी गयी है।

सावधानियां :

माण्डूकी मुद्रा करते समय आपका पूरा ध्यान जीभ के संचालन पर रहना चाहिए |
आँखें बंद रखें एवं मन की आँखों से (अन्तःचक्षु) से जीभ के क्रियाकलाप को देखते रहें |
भोजन के तुरंत बाद या पहले माण्डूकी मुद्रा न करें | कम-से-कम 30 मिनट के अंतर पर कर सकते हैं |

मुद्रा करने का समय व अवधि :

माण्डूकी मुद्रा करने का सबसे उपयुक्त समय प्रातः एवं सायंकाल का है |
यह मुद्रा 5 मिनट से प्रारंभ करके धीरे-धीरे 15 मिनट तक बढ़ा सकते हैं |
चिकित्सकीय लाभ :

बाल झड़ना, गंजापन एवं असमय सफेद हो रहे बालों को रोकने के लिए योगशास्त्र में माण्डुकी मुद्रा को सबसे श्रेष्ठ उपाय बताया गया है।
माण्डुकी मुद्रा करने से शरीर में झुर्रियां पड़ना रुक जाता है तथा यौवन की प्राप्ति होती है।
माण्डुकी मुद्रा के निरंतर अभ्यास से जीभ, गले और आंखों के रोग समाप्त हो जाते हैं |
इस मुद्रा के प्रभाव से चेहरे एवं शरीर में चमक पैदा हो जाती है।
माण्डुकी मुद्रा से पाचन सम्बन्धी रोग समाप्त हो जाते हैं |

आध्यात्मिक लाभ :

माण्डुकी मुद्रा से इच्छाओं पर सयंम होता है एवं मन को नियंत्रित करने की शक्ति उत्पन्न होती है |

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here