जांबाज हनमंथप्पा के लिए अगले 24 घंटे अहम, महिला ने की किडनी देने की पेशकश

530

nidhi
दुनिया के सबसे ऊंचे युद्धक्षेत्र सियाचिन के उत्तरी ग्लेशियर में 25 फुट मोटी बर्फ की परत से छह दिन बाद जिंदा निकले लांसनायक हनमंथप्पा कोप्पड़ कोमा में हैं। दिल्ली स्थित सेना के आरआर अस्पताल में भर्ती हनमंथप्पा के लिवर व किडनी ठीक से काम नहीं कर रहे हैं। रक्तचाप धीमा है। कर्नाटक के धारवाड़ जिले के हनमंथप्पा को वेंटिलेटर पर रखा है। वहीं उत्तर प्रदेश के लखीमपुर खीरी जिले की एक महिला सरिता उर्फ निधि पांडेय ने मौत से जूझ रहे जवान को अपनी किडनी देने की पेशकश की है।

जानकारी के अनुसार सरिता उर्फ निधि पाण्डेय लखीमपुर खीरी के भीरा थाना इलाके में गांव पड़रिया तुला की रहने वाली हैं। निधि पाण्डेय के पति दीपक प्राइवेट बस के मैनेजर हैं और सोशल वर्कर के तौर पर गांव में प्रसिद्ध है। इनका एक 3 साल का बेटा भी है।सरिता उर्फ निधि ने बताया कि मेरे पति ने कई बार ब्लड भी डोनेट किया है। उन्होंने अपनी आंखें में डोनेट कर दी है। निधि ने बताया कि वह भी अपने पति से प्रेरित होकर उनके जैसा ही कुछ करना चाहती है। जब उसे न्यूज चैनल पर सियाचीन के बर्फीले तूफान से जिंदा निकले जवान के बारे में पता चला तो उन्होंने उसे अपनी किडनी देने की पेशकश की।

वहीं दूसरी तरफ हनमनथप्पा को रेस्क्यू के बाद जवान को जम्मू कश्मीर से मंगलवार को दिल्ली में आर्मी के रिसर्च एंड रेफरल हॉस्पिटल लाया गया। तब से वह कोमा में है। उसके लीवर और किडनी में इंफेक्शन है। डॉक्टर्स के अनुसार, अगले 24 से 48 घंटे क्रिटिकल होंगे। उन्हें वेंटिलेटर पर रखा गया है। आपको बता दें कि 3 फरवरी को एवलांच में एक जेसीओ समेत 10 सोल्जर्स का ग्रुप बर्फ के नीचे दब गया था। लांस नायक तो 6 दिन बाद मिल गए, लेकिन बाकी जवानों को मृत माना जा रहा है। वहीं 4 जवानों के शव भी मिले है

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here