इशरत इंकाउन्टर को फर्जी बताने को बनाया गया दबाव: पूर्व आईबी डायरेक्टर

177

rajendra_kumar
दो दिन पहले मुंबई हमले के गुनहगार हेडली ने गवाही में बताया था कि गुजरात में एनकाउंटर में मारी गई इशरत जहां आतंकी थी. इसके बाद आईबी के पूर्व डायरेक्टर राजेंद्र कुमार का बयान आया है जो कांग्रेस की अगुवाई वाले यूपीए की सरकार पर सवाल खड़े कर रहा है.

राजेंद्र कुमार ने कहा है कि मोदी पर हमला करने के लिए यूपीए सरकार ने जान बूझकर इशरत का सच छिपाया. बड़ी बात ये है कि राजेंद्र कुमार का कहना है कि यूपीए सरकार में ये सच कांग्रेस के उस बड़े नेता के कहने पर छिपाया गया जो गुजरात से आते हैं लेकिन राजेंद्र उस नेता का नाम नहीं बता रहे.
अंग्रेजी अखबार टाइम्स ऑफ इंडिया को दिए इंटरव्यू में राजेंद्र कुमार ने 2004 के इशरत एनकाउंटर को लेकर अहम खुलासे किए हैं।
कुमार ने कहा कि सीबीआई के एक बड़े अफसर और कांग्रेस के एक बड़े नेता मुझे इस कथित ‘फेक एनकाउंटर’ में फंसाना चाहते थे।
हालांकि, कुमार ने अभी उस नेता का नाम बताने से इनकार कर दिया, जिन पर वह आरोप लगा रहे हैं।
राजेंद्र ने कहा की वो सबूत जुटा रहा हैं जिन्हें कोर्ट या सरकार के सामने पेश करेंगे ।उन्होंने कहा कि मैं बताऊंगा कि किस तरह से मुझ पर और दूसरे आईबी अफसरों पर सच्चाई दबाने और फैक्ट्स छुपाने के लिए दबाव डाला गया। मेरी शिकायत में उस भ्रष्ट सीबीआई अफसर और नेता का नाम भी होगा, जिन्होंने साजिश रची और केस को पॉलिटिकल बनाने की कोशिश की
राजेंद्र कुमार ने किसी की नाम नहीं लिया लेकिन उनका इशारा कांग्रेस के दिग्गज नेता अहमद पटेल की तरफ था. आपको बता दें अमित शाह ने भी जब इस मामले को लेकर आरोप लगाए थे तो उन्होंने भी अहमद पटेल का नाम लिया था. कांग्रेस अब राजेंद्र कुमार के आरोपों को सिरे खारिज कर रही है तो वहीं बीजेपी अहमद पटेल के जरिए सीधे 10 जनपथ पर निशाना साधने की कोशिश कर रही है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here