सर्वोच्च न्यायालय ने कन्हैया की जमानत याचिका पर सुनवाई से किया इनकार, कहा उचित न्यायालय जाइये

181

SC
उच्चतम न्यायालय ने जेएनयू छात्र संघ अध्यक्ष की जमानत याचिका पर विचार करने से इनकार करते हुए इसे आज उच्च न्यायालय को हस्तांतरित कर दिया और उससे कहा कि वह मामले से शीघ्रता से निपटे । न्यायालय ने यह कहते हुए याचिका पर विचार नहीं किया कि उसके सीधे हस्तक्षेप से खतरनाक दृष्टांत स्थापित होगा ।

न्यायमूर्ति जे. चेलमेश्वर और न्यायमूर्ति एएम सप्रे की पीठ ने कहा, ‘‘आप एक खतरनाक दृष्टांत का नेतृत्व कर रहे हैं । यदि यह न्यायालय इस पर विचार करेगा तो यह देश में सभी आरोपयिों के लिए एक दृष्टांत बन जाएगा । जब भी राजनीतिक लोगों या प्रसिद्ध लोगों या अन्य से संबंधित संवेदनशील मामले होंगे..आप अदालतों में माहौल जानते हैं ।’’ पीठ ने कहा, ‘‘इसलिए हर मामले में यदि यह कहा जाए कि उच्चतम न्यायालय ही एकमात्र अदालत है, तो यह एक खतरनाक दृष्टांत होगा ।’’ इसने आगे कहा, ‘‘याद रखिए, यह इस तरह का एकमात्र मामला नहीं है ।’’ देशद्रोह के आरोप में गिरफ्तार कन्हैया की जमानत याचिका को हस्तांतरित करते हुए पीठ ने सॉलिसिटर जनरल रंजीत कुमार से एक आश्वासन लिया कि इस मामले से संबंधित ‘‘मौजूदा असाधारण स्थिति’’ में भारत सरकार और दिल्ली पुलिस आयुक्त आरोपी और उच्च न्यायालय में पेश होने वाले वकीलों को उचित सुरक्षा उपलब्ध कराएंगे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here