यरवदा जेल से रिहाई के बाद अब आजाद हैं संजय दत्त

495

sanjay
वर्ष 1993 के मुंबई विस्फोटों के मामले में दोषी करार दिए जाने के बाद से शुरू हुए अपने खराब दौर को पीछे छोड़ते हुए बॉलीवुड अभिनेता संजय दत्त अपनी पांच साल की सजा में 144 दिन की छूट मिलने के बाद आज यरवदा केंद्रीय कारागार से एक आजाद व्यक्ति के तौर पर बाहर आए।

नीली कमीज और जीन्स पहले 56 वर्षीय अभिनेता के चेहरे पर मुस्कान साफ तौर पर दिखाई दे रही थी। जेल से बाहर निकलने के बाद वह वहां मौजूद लोगों का हाथ हिलाकर अभिवादन करते हुए तेजी से बाहर इंतजार कर रही कार की ओर बढ़ गए।

स्वस्थ नजर आ रहे संजय ने अपने हाथों में एक ‘खाकी’ बैग पकड़ा था, जिसमें उनका सामान था। इसके साथ ही उनके हाथ में हरे रंग की एक फाइल भी थी, जिसमें संभवत: उनका जेल से जुड़ा रिकॉर्ड था।

जेल से बाहर आने के बाद की घटनाओं में कुछ नाटकीय पुट उस समय देखने को मिला, जब संजय ने पूरे मीडिया के सामने पीछे मुड़कर जेल की इमारत पर फहरा रहे तिरंगे को सलाम किया और झुककर मिट्टी को स्पर्श किया।

संजय की पत्नी मान्यता और उनके दोस्त एवं ब्लॉकबस्टर ‘मुन्नाभाई’ के निर्माता राजकुमार हिरानी बाहर कार में उनका इंतजार कर रहे थे। संजय खुद कार चलाकर पुणे हवाईअड्डे की ओर रवाना हो गए। वहां से उन्हें मुंबई के लिए चार्टेड विमान में सवार होना था।

पुणे हवाईअड्डे के बाहर संवाददाताओं से बातचीत करते हुए अभिनेता ने चुटीले अंदाज में कहा, ‘‘आजादी की राह आसान नहीं होती, मेरे दोस्तों।’’ संजय को जेल की औपचारिकताएं पूरी होने के बाद सुबह आठ बजकर 45 मिनट पर रिहा किया गया। उन्हें पुलिस वाले बाहर तक लेकर आए। इलाके में सुरक्षा व्यवस्था बेहद कड़ी रखी गई थी।

संजय अपनी पांच साल की कैद की सजा में से 18 माह मुंबई की आर्थर रोड जेल में एक विचाराधीन कैदी के रूप में बिता चुके थे। सजा के शेष 42 माह उन्होंने यरवदा जेल में बिताए हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here