प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने महिलाओं को जन प्रतिनिधि के तौर पर प्रभावी बनने की वकालत की

525

modi-03-03-16
महिला-नीत विकास के महत्व पर जोर देते हुए प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने आज कहा कि महिलाओं को प्रौद्योगिकी सम्पन्न और जनप्रतिनिधि के तौर पर और प्रभावी बनना चाहिए क्योंकि केवल व्यवस्था में बदलाव से काम नहीं चलेगा। प्रधानमंत्री हालांकि महिला आरक्षण विधेयक पर कुछ नहीं बोले जिसकी कल राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी और उपराष्ट्रपति हामिद अंसारी ने पुरजोर वकालत की थी।

संसद के केंद्रीय कक्ष में महिला विधायकों के राष्ट्रीय सम्मेलन के समापन सत्र को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि हमें महिला विकास से आगे बढ़कर सोचना चाहिए और महिला-नीत विकास की दिशा में आगे बढ़ना चाहिए।

उन्होंने इस बात पर जोर दिया कि केवल व्यवस्था में बदलाव पर्याप्त नहीं होगा । ढांचे में कुछ बदलाव होते रहते हैं और महिला जन प्रतिनिधियों और नेताओं को प्रौद्योगिकी के स्तर पर सम्पन्न बनने और प्रभावी हस्तक्षेप करने की जरूरत है।

मोदी ने कहा, ‘‘आपको स्वयं को प्रभावशाली बनाना होगा । आपको मुद्दों को तथ्यों और आंकड़ों के साथ पेश करना होगा । केवल व्यवस्था में बदलाव से काम नहीं चलेगा। ढांचे में कुछ बदलाव होते रहते हैं, एक नेतृत्व के तौर पर स्थापित करने के लिए आपको विषयों की जानकारी होनी चाहिए ।

प्रधानमंत्री ने कहा, ‘‘ जन प्रतिनिधि के तौर पर स्वतंत्र छवि बनाने का प्रयास करें । आप अपने क्षेत्र में अपनी छवि बनायें । एक बार आपकी छवि, आपके काम करने का तरीका स्थापित होगा तो यह लम्बे समय तक बना रहेगा ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here