अरे वाह ! हवा में खड़ा है ये मंदिर

567

mandir-chin
दुनिया में ऐसा भी एक मंदिर हैं जो हवा में खड़ा है, जी हां। हम बात कर रहे हैं उत्तरी चीन के उस हवा मंदिर की जो केशानसी प्रांत में हंग पहाड़ी की एक चट्टान में खड़ा है। यह मंदिर जमीन के तल से 75 मीटर या 246 फुट ऊपरबनाया गया है।

इस मंदिर से निकटतम नगरताथोंगा है, जो इसके उत्तर-पश्चिम में 64.23 किमी दूर है। यह हवा में खड़ा मंदिर ऐतिहासिक स्थलों और मुख्य पर्यटक आकर्षणों में से एक है। यह चीन में अब तक सुरक्षित एकमात्रबौद्ध ताओ औरकन्फ्युशियस धर्मों की मिश्रित शैली से बना अदभुत मंदिर है।बता दें, इस जगह को दुनिया की दस सबसे अजीब खतरनाक इमारतों में शामिल किया।हंग पहाड़ी के इतिहास के अनुसार मूल मन्दिर का निर्माण लियाओ नामक एक भिक्षु ने अकेले शुरू किया था। यह मंदिर 1600 वर्ष से भी अधिक पुराना है जिसका कई बार विस्तार और मरम्मत हो चुकी है।

चीन के सुरक्षित प्राचीन स्थापत्य कला निर्माणों में से यह मंदिर एक अत्यन्त अद्भुत निर्माण माना जाता है। यह मन्दिर घनी पहाड़ियों की घाटी में फैले एक छोटे से बेसिन में स्थित है। इस घाटी की दोनों तरफ़ 100 मीटर की ऊँचाई वाली सीधी चट्टानें हैं और मंदिर चट्टान पर जमीन से 50 मीटर की ऊंची सतह पर बना हुआ है, जो हवा में खड़ा हुआ दिखाई देता है। मंदिर के ऊपर पहाड़ी चट्टान का एक विशाल टुकड़ा बाहर की ओर आगे बढ़ा हुआ है, जिसे देखने पर ऐसा प्रतीत होता है कि जैसे वह अभी मंदिर पर गिर जाएगा। इस मंदिर में कुल-मिलाकर 40 से अधिक भवन व मंडप हैं। इसमें जाने के लिए लकड़ी के बने रास्ते से पैदल जाना पड़ता है जिस से पांव के दबाव से लकड़ी का रास्ता आवाज तो जरूर करता है, परन्तु चट्टान से सटा मंदिर जरा भी हिचकोले नहीं खाता हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here