जनहित याचिका: महात्मा गांधी को चौथी गोली किसने मारी ?

2827

gandhiji
राष्ट्रपिता महात्मा गांधी को नाथूराम गोडसे के अलावा और किसने मारा था। यह सवाल करने वाले अभिनव भारत के ट्रस्टी डॉ. पंकज फडणीस ने हत्या के पीछे के षडयंत्र का पता लगाने के लिए नए सिरे से जांच आयोग बनाने की मांग को लेकर बांबे हाईकोर्ट में जनहित याचिका दायर की है। डॉ. फडणीस ने याचिका में दावा गया है कि मामले की जांच करने वाला जेएल कपूर आयोग गांधी की हत्या की पीछे जुड़ी साजिश की ठीक तरह से जांच नहीं कर पाया था।
हाईकोर्ट में दायर की गई याचिका में अभियोजन पक्ष के दावों का हवाला देते हुए कहा गया है कि हत्यारे ने गांधी को तीन गोलियां मारी थी जबकि रिवाल्वर में सात गोलियां थी। चार गोलियां पुलिस ने रिवाल्वर से बरामद कर ली थी जबकि गांधी को चार गोलियां लगी थी। जिसके बाद 30 जनवरी 1948 को उनकी मौत हो गई थी। अपने दावे को लेकर याचिकाकर्ता ने कई मीडिया रिपोर्ट का हवाला दिया है। इस पीआईएल पर 6 जून को मुख्य न्यायाधीश डीएच वाघेला की खंडपीठ के सामने सुनवाई हो सकती है। याचिका में कहा गया है कि नया जांच आयोग यह पता लगाए कि चौथी गोली किसने चलाई थी। क्या नाथूराम गोडसे के अलावा भी किसी और ने गोली चलाई थीघ् इसकी जांच आवश्यक है। दूसरी तरफ महात्मा गांधी के पड़पोते तुषार गांधी ने ट्वीट कर याचिकाकर्ता पर निशाना साधा है। उन्होंने कहा कि हाईकोर्ट को याचिकाकर्ता की दिमागी हालत का भी पता लगाने के आदेश देने चाहिए।

गौरतलब है कि इस साल जनवरी महीने में डॉ. फडणीस ने केंद्रीय कानून मंत्री को पत्र लिखकर मांग की थी कि महात्मा गांधी की हत्या की दुबारा जांच होनी चाहिए। फडणीस के मुताबिक महात्मा गांधी की हत्या के मौके पर उपस्थित रायटर के पत्रकार केसी राय ने अपने दफ्तर में फोन कर बताया था कि महात्मा गांधी को चार गोलियां लगी थी। पुलिस ने गोडसे की एम 34 बरेटा इटालियन पिस्टल से चार गोलियां भी बरामद की थी जबकि उस पिस्टल में सात गोलियां आती हैं। गौरतलब है कि अभिनव भारत संगठन पर मालेगांव बम धमाकों की साजिश रचने का आरोप था। कर्नल पुरोहित, साध्वी प्रज्ञा और समीर कुलकर्णी जैसे लोगों का नाम भी इस गठन से जुड़ता रहा है। पुरोहित पर आरोप है कि उन्होंने बम धमाकों की साजिश के लिए 2006 में अभिनव भारत संगठन खड़ा किया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here