वकील का दावा, जिंदा है रामबृक्ष यादव, पुलिस ने 600 लोगों को उतारा मौत के घाट

297

ram-briksha-yadav
जवाहर बाग पर अवैध कब्जे का मास्टर माइंड रामबृक्ष यादव अभी जिंदा है, यह दावा रामबृक्ष यादव के वकील ने किया है। रामबृक्ष के वकील तरुण गौतम का दावा है कि रामबृक्ष अभी जिंता है। रामबृक्ष के वकील का दावा है कि दो जून को पुलिस ने जवाहर बाग में अंधाधुंध गोलिया बरसायी थी जिसके चलते यहां 600 लोगों की मौत हुई है। लेकिन इन सभी की हत्या के बाद यहां आग लगा दी गयी और सबकुछ जलकर स्वाहा हो गया।

वकील का दावा है कि पुलिस ने जवाहर बाग को जलियांवाला बाग कांड से भी भयानक बना दिया था। वकील का दावा है कि रामबृक्ष अभी जिंदा है वह इस मामले में पुलिस को तहरीर देंगे। तरुण गौतम का कहना है कि दो जून को रामबृक्ष की सुबोध यादव के मामले में सुनवाई थी इसीलिए उन्हें शपथपत्र दाखिल करना था। रामबृक्ष के बेटे विवेक यादव ने अपने लैपटॉप में शपथ पत्र भी साइन किया था। वकील ने कहा कि इसी दौरान मेरे पास फोन आया कि पुलिस ने जवाहर बाग को पीछे से घेर लिया है और दीवार को तोड़ दिया था। लोगों ने बताया कि जवाहर बाग में हमला होने वाला है। तभी गेट पर गोलाबारी शुरु हो गयी। तरुण के अनुसार वहां जो लोग भाग रहे थे उनकी जमकर पिटायी की गयी। इस दौरान यहां तीन चार हजार लोग इकट्ठा थे। उन्होंने बताया कि जिन जिन लोगों को पुलिस ने गोली मारी थी उनके शव को आग में झोंक दिया गया था।

आग में जली हड्डियों को पुलिस ने फेंक दिया था। इसी मकसद से पुलिस ने पूरे इलाके को सीज कर दिया था जिससे की सबूतों को मिटाया जा सके। वकील ने दावा किया कि रामबृक्ष की बेटी गुड़िया शव की पहचान करना चाहती थी लेकिन पुलिस ने मना कर दिया था। यही नहीं वह शव को लेना भी चाहती थी लेकिन पुलिस ने कहा कि पोस्टमार्टम के बाद ही शव दिया जाएगा लेकिन ऐसा नहीं किया गया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here