एनआईए टीम के दौरे के खिलाफ नहीं है पाकिस्तान, विदेश सचिव स्तरीय वार्ता रद्द नहीं हुई : सुषमा

215

swaraj
भारत ने रविवार को कहा कि पाकिस्तान ने पठानकोट एयरबेस पर हुए आतंकवादी हमले की जांच के लिए एनआईए टीम के वहां जाने की अनुमति देने से इनकार नहीं किया है तथा उसने और समय की मांग की है। इसके साथ ही भारत ने साफ किया कि आतंकवाद और वार्ता एक साथ नहीं चल सकते।

‘पाकिस्तान के संबंध में तीन बिंदु वाला फॉर्मूला’
विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और उनके पाकिस्तानी समकक्ष नवाज शरीफ के संबंधों में ‘गर्मजोशी और सहजता’ से दोनों पड़ोसियों के बीच के जटिल मुद्दों के हल में मदद मिल सकती है। सुषमा ने जोर देकर कहा कि भारत, पाकिस्तान के साथ सभी मुद्दों को वार्ता के जरिए हल करना चाहता है। उन्होंने कहा कि सरकार इस्लामाबाद के संबंध में तीन बिंदु वाले फॉर्मूले पर काम कर रही है, जिसमें जोर इस बात पर है कि अगर पाकिस्तान आतंकवाद पर काबू के लिए कार्रवाई नहीं करता तो बातचीत नहीं हो सकती।

विदेश मंत्री ने एक संवाददाता सम्मेलन में कहा, ‘सर्वप्रथम, हम हर मुद्दा बातचीत के जरिये सुलझाना चाहते हैं। दूसरा, बातचीत भारत और पाकिस्तान के बीच होगी और इसमें कोई तीसरा देश या पक्ष नहीं होगा। तीसरा, आतंकवाद और बातचीत साथ-साथ नहीं चल सकते।’ सुषमा ने कहा कि दोनों देशों के बीच जटिल मुद्दे हैं और उनके जल्दी समाधान होने की उम्मीद करना व्यवहारिक नहीं होगा। उन्होंने कहा कि दोनों देशों के बीच विदेश सचिव स्तरीय वार्ता रद्द नहीं हुई है। न तो हमारी ओर से और न ही उनकी ओर से इसे रद्द किया गया है।
‘पाक से ठोस कदमों का इंतजार’
उन्होंने कहा, ‘पठानकोट हमले के बाद, सरकार और लोगों को उम्मीद थी कि उस पक्ष की ओर से कुछ ठोस कदम उठाए जाएंगे। यह उम्मीद अकारण नहीं है, इसलिए हम उस पक्ष की ओर से ठोस कदमों की प्रतीक्षा कर रहे हैं।’ विदेश मंत्री ने कहा कि पाकिस्तान ने पठानकोट आतंकवादी हमले की जांच को आगे बढ़ाने के लिए एनआईए टीम के उस देश की यात्रा के लिए अनुमति देने से इनकार नहीं किया है और वह साक्ष्यों की जांच के लिए और समय की मांग कर रहा है।

पाकिस्तान के पांच-सदस्यीय संयुक्त जांच दल (जेआईटी) ने हमले के संबंध में साक्ष्य एकत्र करने के लिए 27 मार्च से 31 मार्च के बीच भारत का दौरा किया था। भारत यह लगातार कहता रहा है कि जेआईटी की यात्रा परस्पर आधार पर थी और एनआईए की टीम जांच के लिए पाकिस्तान जाना चाहेगी।

सुषमा ने कहा कि इस्लामाबाद में भारतीय उच्चायुक्त ने इस मुद्दे पर दो बार अधिकारियों से मुलाकात की और ‘उन्होंने कहा कि वे (साक्ष्य का) विश्लेषण कर रहे हैं। उन्होंने (एनआईए की यात्रा के लिए अनुमति देने से) इनकार नहीं किया है। उन्होंने सिर्फ कहा है कि वे और समय चाहते हैं।’

‘पाकिस्तान के रवैये में भारी बदलाव आया है’
उन्होंने जोर दिया कि पठानकोट हमला और विगत में हुए आतंकवादी हमलों पर पाकिस्तान की प्रतिक्रिया में ‘भारी अंतर’ आया है। उन्होंने कहा कि पीएम मोदी और नवाज शरीफ के बीच के संबंधों की गर्मजोशी से जटिल समस्याओं के हल में मदद मिल सकती है।

उन्होंने इसके साथ ही कहा, ‘ऐसा नहीं है कि संबंधों में गर्मजोशी के कारण हम चीजों को हल्के में लेंगे और सतर्क नहीं रहेंगे।’ दोनों नेताओं के संबंधों में गर्मजोशी को रेखांकित करने के लिए सुषमा ने पिछले साल दिसंबर में पीएम मोदी की अघोषित लाहौर यात्रा और पिछले महीने शरीफ द्वारा लंदन में सर्जरी के एक दिन पहले भारतीय प्रधानमंत्री को फोन किए जाने के वाकये का जिक्र किया।

‘दोनों पीएम के संबंधों में गर्मजोशी’
उन्होंने कहा, ‘यह सच है कि दोनों देशों के बीच कठिन मुद्दे हैं। कश्मीर पर संयुक्त राष्ट्र प्रस्ताव जैसे मुद्दे हैं, जैसा आप जिक्र कर रहे हैं।’ पाकिस्तान के साथ भारत के संबंधों के बारे में पूछे गए एक सवाल का जवाब देते हुए उन्होंने कहा, ‘दो-तीन दौर की वार्ताओं के बाद या जल्दी उनके हल की उम्मीद करना अव्यवहारिक होगा। लेकिन मुद्दों के हल के लिए, आपको संबंधों की जरूरत होगी। मैं कहना चाहूंगी कि दोनों प्रधानमंत्रियों के संबंधों में गर्मजोशी है।’

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here