युद्धग्रस्त दक्षिणी सूडान से 300 भारतीयों ने भारत आने से किया इनकार

295
indiancamefromsudan
 युद्धग्रस्त दक्षिणी सूडान फंसे भारतीयों का पहला जत्था शुक्रवार सुबह भारत पहुंचा। इस जत्थे में करीब 156 भारतीयों को वायुसेना के परिवहन विमान सी-17 ग्लोबमास्टर से लाया गया। लेकिन अभी भी करीब तीन सौ भारतीय वहीं रह गए हैं उनका कहना है कि वह स्थानीय बिजनस की वजह से भारत नहीं आ सकते।
विदेश राज्य मंत्री वी.के. सिंह ने कहा कि हमने उन्हें समझाने की कोशिश की पर मुझे लगता है कि उनके लिए बिजनस पहले और जिंदगी बाद में है। जुबा में 550 भारतीयों के अलावा तेल कुंओं के इलाके में 150 भारतीय नागरिक हैं। भारतीयों को निकालने की कार्रवाई में दिक्कतें भी पैदा हुईं। क्योंकि जुबा में भारतीय दूतावास में नाम दर्ज कराने वालों में से केवल 156 ही भारत लौटने को तैयार हुए। दक्षिणी सूडान से घर वापस लौटने वाले लोगों में में नौ महिलाएं और तीन बच्चे हैं। दूसरी ओर यूनाइटेड नेशन ने कहा है कि चार दिनों की हिंसा में जुबा में अब तक कम से कम तीन सौ लोग मारे जा चुके हैं।
दिल्ली पहुंचने के पहले वायुसेना का विमान तिरुवनंतपुरम कुछ देर के लिए रुका था, जहां तमिलनाडु और केरल के यात्री उतरे। विमान में दो नेपाली नागरिक भी लाए गए। विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने ट्वीट कर कहा, ‘दक्षिणी सूडान से विमान सुरक्षित लौट आया है। मैं लौटे भाइयों और बहनों का स्वागत करती हूं। संकट के वक्त आपका देश हमेशा आपके साथ है। उन्होंने वायुसेना का आभार जाहिर किया।’

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here