रंग बदलते साँपों को देखने उमड़ा जनसैलाब

498

snake

अलग-अलग रंगों के लगभग आधा दर्जन से अधिक सांप एक ही स्थान पर देखे जाने से लोग दंग है। सांप निर्धारित समय पर बिल से निकलते भी हैं और उनका बार-बार रंग बदलता देख ग्रामीण भी आश्चर्य चकित हैं। अंधविश्वास में डूबे लोग दैवीय चमत्कार मानकर भजन कीर्तन में भी जुट गए हैं।

हजारों की संख्या में प्रतिदिन नागराजों के दर्शन करने लोगों की भीड़ उमड़ रही है। मामला डिंडौरी जिले के मेहंदवानी विकासखंड अंतर्गत ग्राम भुरका का है। यहां एक पहाड़ी में लगभग 8 से अधिक सर्प झुंड में नजर आ रहे हैं, जिनमें नाग-नागिन दोनों हैं। आस्था में डूबे लोग अब इस स्थान को कलयुग का नागलोक कह रहे हैं।
युवक ने देखा नाग-नागिन का झुंड
ग्रामीणों की माने तो गांव का ही युवक लखन जब पहाड़ी की झिरिया में नहाने गया तो उसने एक साथ झुंड में नाग-नागिन को विचरण करते देखा। एक साथ अलग-अलग रंग के नाग-नागिन देख युवक द्वारा भागकर गांव में इसकी सूचना परिजनों सहित ग्रामीणों को दी गई। सूचना मिलते ही जब ग्रामीणों ने जाकर देखा तो नाग-नागिन अलग प्रजाति के भी दिखे। एक साथ झुंड में नजर आए नाग-नागिन को देखकर ग्रामीण इसे दैवीय चमत्कार मानकर पूजा-अर्चना में जुट गए। सावन माह में ही नागराजों के एक साथ इतनी बड़ी संख्या में दर्शन पाकर ग्रामीण तभी से यहां भजन कीर्तन में लगे हुए हैं।
पूजा-अर्चना से निकलते हैं नागराज
पहाड़ी में नागराजों ने डेरा जमाया हुआ है। भजन कीर्तन का दौर भी लगातार जारी है। दूर-दूर से लोग दूध व श्रीफल लेकर पहुंच रहे हैं। पंडा जतन सिंह की माने तो उसने अब तक इस प्रजाति के नाग-नागिन नहीं देखा है। ग्रामीणों द्वारा जनसहयोग से शिवलिंग की स्थापना भी कर दी गई है।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here