मास्टरस्ट्रोक साबित हो सकता है आवाज-ए-पंजाब, आठ सितंबर को हो जाएगा सब साफ

207

navjot

बीजेपी के पूर्व सांसद और पूर्व क्रिकेटर नवजोत सिंह सिद्धू ने आम आदमी पार्टी, बीजेपी और कांगेस के खिलाफ गुगली फेंक दी है. पंजाब की राजनतिक पिच पर चुनाव से ठीक पहले ‘आवाज-ए-पंजाब’ नाम की नई गेंद उछाल दी गई है. अकाली दल से निलंबित विधायक परगट सिंह ने इस नए मोर्चे से सिद्धू के जुड़ने का दावा किया है और एक पोस्टर भी जारी किया, लेकिन इस गेंद पर मास्टरस्ट्रोक यानी आखि‍री फैसला 8 सितंबर को सिद्धू ही करने वाले हैं.

 

सिद्धू की पत्नी नवाजोत कौर का कहना है कि उन्होंने ओलिंपियन परगट सिंह का फेसबुक पोस्ट देखा है. इसमें लुधियाना से विधायक बैंस बंधू और परगट के साथ नवजोत सिंह सिद्धू का पोस्टर है. कौर ने कहा, ‘8 सितंबर को नवजोत सिंह सिद्धू परगट के दावों और मोर्चे को लेकर अपना फैसला मीडिया के सामने रखेंगे.’

कहा जा रहा है की ‘आवाज-ए-पंजाब’ फिलहाल एक मंच है, लेकिन चुनावों से पहले ये मंच एक राजनीतिक मास्टर स्ट्रोक साबित हो सकता है. बीजेपी से इस्तीफा देने के बाद सिद्धू का झुकाव ‘आप’ की तरफ था. इस बीच कभी-कभी कांग्रेस के साथ बातचीत के भी उनके आसार बने. लेकिन फिलहाल इस आवाज-ए-पंजाब मंच ने कहीं न कहीं राजनीतिक पंडितों को हैरान जरूर कर दिया है.

बदलते समीकरण के बीच नया मोर्चा
विशेषज्ञ मानते हैं कि पंजाब की राजनीति के समीकरण लगातार बदल रहे हैं. ऐसे में इस मोर्चे का ऐलान परगट सिंह, बैंस बंधुओं और सिद्धू के लिए बड़ी सफलता की गारंटी बनकर उभर सकता है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here