अखिलेश कि एक न चली, शिवपाल और प्रजापति की सरकार में वापसी, अध्यक्ष भी शिवपाल ही

159

sp-chief-mulayam-yadav-with-up-cm-akhilesh

समाजवादी पार्टी में चल रहे घमासान पर आखिरकार विराम लग गया। बेटे अखिलेश यादव और भाई शिवपाल यादव के बीच चल रहे सियासी दंगल का फैसला शुक्रवार को पार्टी मुखिया मुलायम सिंह ने कर दिया। इस दौरान अखिलेश यादव का कोई दांव काम नहीं आया और उनके सारे फैसले पलट दिए गए।

इतना ही नहीं, गायत्री प्रजापति की भी वापसी हो गई है. पिछले हफ्ते भ्रष्टाचार के आरोप में उनसे छीना गया मंत्रालय वापस लौटा दिया जाएगा. प्रजापति को मुलायम सिंह और शिवपाल यादव का करीबी माना जाता है.

इससे पहले, दोपहर को मुलायम सिंह, शिवपाल यादव और अखिलेश यादव ने 30 मिनट तक मुलाकात की थी. इसके बाद सपा सुप्रीमो मुलायम सिंह ने कहा था कि पार्टी में मतभेद नहीं हैं, हम सब साथ हैं. मेरे रहते पार्टी में फूट नहीं हो सकती, हालांकि परिवार में कभी-कभी मतभेद हो जाता है.

शुक्रवार शाम सीएम ऑफिस की ओर से आधिकारिक सूचना जारी की गई कि शिवपाल यादव के सारे पोर्टफोलियो वापस किए जाएंगे। साथ ही गायत्री प्रजापति की कैबिनेट में वापसी होगी। शिवपाल यादव सपा के प्रदेश अध्यक्ष पद पर भी काबिज रहेंगे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here