पीएसएलवी ने स्कैटसैट-1 और सात अन्य उपग्रह कक्षा में स्थापित किए

301

slv
अपने अब तक के सबसे लंबे अभियान के तहत भारत के सबसे अहम प्रक्षेपणयान पीएसएलवी ने आज आठ उपग्रहों का सफलतापूर्वक प्रक्षेपण करने के बाद उन्हें दो अलग-अलग कक्षाओं में स्थापित कर दिया। इन आठ उपग्रहों में भारत का एक मौसम उपग्रह स्कैटसैट-1 और अन्य देशों के पांच उपग्रह भी शामिल हैं।

इन उपग्रहों को दो अलग-अलग कक्षाओं में प्रवेश करवाने के लिए चार चरणीय ईंजन को दो बार पुन: शुरू किया गया।

सबसे पहले 371 किलोग्राम वजन वाले प्राथमिक उपग्रह स्कैटसैट-1 को ‘पोलर सन सिंक्रोनस ऑर्बिट’ में प्रवेश कराया गया। इस कक्षा में उपग्रह सूर्योन्मुख होता है। स्कैटसैट-1 को कक्षा में प्रवेश करवाने का काम पीएसएलवी सी-35 के सुबह नौ बजकर 12 मिनट पर अंतरिक्ष केंद्र से उड़ान भरने के लगभग 17 मिनट बाद किया गया।

इसके बाद रॉकेट ने लगभग दो घंटे 15 मिनट बाद अन्य उपग्रहों को 689 किलोमीटर की उंचाई पर स्थित एक निचली ध्रुवीय कक्षा में सटीकता के साथ प्रवेश करवाया।

पीएसएलवी ‘एक्सएल’ प्रारूप के तहत अपनी इस 15वीं उड़ान में जितने पेलोड अपने साथ ले गया है, उसका कुल वजन लगभग 675 किलोग्राम है।

स्कैटसैट-1 के अलावा जिन उपग्रहों को कक्षा में प्रवेश कराया गया, उनमें भारतीय विश्वविद्यालयों के दो उपग्रह- प्रथम और पी आई सैट, अल्जीरिया के तीन उपग्रह- अलसैट-1बी, अलसैट-2बी और अलसैट-1एन, अमेरिका का उपग्रह- पाथफाइंडर-1 और कनाडा का उपग्रह- एनएलएस-19 शामिल थे। इनपुट -भाषा

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here