BMC चुनावः शिवसेना से महज 3 सीट पीछे बीजेपी, निरुपम, पंकजा ने दिया इस्तीफा

267

बीएमसी चुनाव में शिवसेना और भाजपा ऐसे मोड़ पर पहुंच गई हैं, जहां एक-दूसरे के साथ के बिना निगम पर काबिज होना मुश्किल होगा। दोनों को नगर निगम पर काबिज होने के लिए या तो आपस में या फिर अपनी कट्टर विरोधी कांग्रेस से हाथ मिलाना होगा। बीएमसी चुनाव में किसी भी पार्टी को बहुमत नहीं मिला है।

बीएमसी की 227 में से 226 सीटों के नतीजों में शिवसेना ने 84 और भाजपा ने 81 सीटों पर जीत दर्ज की है। भाजपा का मुंबई निकाय चुनावों में यह सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन है। कांग्रेस ने 31, राज ठाकरे की महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना (एमएनएस) 7, एनसीपी 9 और अन्य ने 7 सीटों पर जीत हासिल की है।

पारदर्शिता के एजेंडे की जीत- देवेन्द्र फडणवीस

पार्टी को बीएमसी और नगरपालिका चुनावों में मिली भारी जीत के बाद महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेन्द्र फडणवीस ने कहा कि यह भाजपा के पारदर्शिता के एजेंडे की बड़ी जीत है। उन्होंने राज्य की महिला एवं बाल कल्याण मंत्री पंकजा मुंड के इस्तीफे के बारे में बोलते हुए कहा कि चुनाव में हार और जीत होता रहता है।

महाराष्ट्र नगर पालिका में शिवसेना के बाद दूसरी नबंर पर आई भाजपा पार्टी के प्रदर्शन से बेहद खुश है। इस मौके पर केन्द्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने कहा कि पहली बार भारतीय जनता पार्टी को अप्रत्याशित सफलता मिली। उन्होंने कहा कि मैं महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री और भाजपा कार्यकर्ताओं को बधाई देता हूं। बीएमसी में मिली भाजपा को मिली भारी जीत पर प्रतिक्रिया देते हुए भाजपा नेता किरीट सोमैय्या ने कहा भाजपा का प्रदर्शन अच्छा रहा। मुंबई ने विकास और पारदर्शिता को चुना। इस रास्ते पर हम अपने सहयोगी दलों को भी साथ लेकर चलेंगे।

पकंजा मुंडे ने मंत्री पद से दिया इस्तीफा

वहीं महाराष्ट्र सरकार में महिला एवं बाल कल्याण मंत्री और भाजपा नेता पंकजा मुंडे ने परली की 10 में से आठ सीटों पर मिली शिकस्त की जिम्मेदारी लेते हुए इस्तीफे की पेशकश की है। उन्होंने अपना इस्तीफा मुख्यमंत्री को भेज दिया है। उन्होंने कहा कि बीड में हुई पार्टी की हार की मैं जिम्मेदारी लेते हुए अपने मंत्री के पद से इस्तीफा देती हूं

संजय निरूपम ने दिया इस्तीफा

बीएमसी चुनाव में कांग्रेस के निराशाजक प्रदर्शन के बाद मुंबई कांग्रेस अध्यक्ष संजय निरूपम ने अपने पद से इस्तीफा दे दिया है। संजय निरुपम ने कहा कि मैं जनता के फैसले को स्वीकार करता हूं। मैं पार्टी के लिए लगातार काम करता रहूंगा। उन्होंने कहा कि कुछ पार्टी के बड़े नेता लगातार पार्टी के काम और मेरे बारे में बयान देते रहे। यह उनके पार्टी विरोधी प्रचार का ही नतीजा है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here