तीन तलाक पर हनुमान जी की शरण में मुस्लिम महिलाएं, सौ बार पाठ करेंगी चालीसा

298

तीन तलाक संकट से मुक्ति पाने के लिए बनारस की मुस्लिम महिलाएं हनुमान चालीसा का पाठ करेंगी। इसका आयोजन बुधवार को पतालपुरी मठ में किया गया है। बुधवार का दिन इसलिए खास है कि अगले ही दिन सुप्रीम कोर्ट की संविधान पीठ तीन तलाक के मामले को लेकर सुनवाई करने वाली है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का संसदीय क्षेत्र बनारस इन दिनों तीन तलाक के विरोध में उठने वाली मुखर आवाज का केंद्र बना है। मुस्लिम महिला फाउंडेशन ने जबरदस्त अभियान छेड़ रखा है। महिला कचहरी के जरिए तीन तलाक का दंश झेलने वाली बड़ी संख्या में महिलाओं के सामने आने और बढ़ते विरोध बौखलाए कट्टरपंथी धमकी देने के बाद हमला भी कर चुके हैं। बावजूद इसके फाउंडेशन का अभियान जारी है। इसी क्रम में अब इस समस्या से जल्द से जल्द छ़ुटकारे के लिए मुस्लिम महिलाएं हनुमान जी की शरण में पहुंचेंगी।

फाउंडेशन की नैशनल सदर नाजनीन अंसारी का कहना है कि जीवन में हताशा-निराशा, हर तरह के संकट से मुक्ति पाने के लिए ही हनुमान चालीसा की रचना हुई है। इसी मान्यता के अनुरूप मुस्लिम महिलाओं के सबसे बड़े संकट ‘तीन तलाक’ से छुटकारे के लिए हनुमान चालीसा पाठ का कार्यक्रम बुधवार की सुबह 10 बजे से रखा गया है। इसमें करीब 50 महिलाएं शामिल होंगी। इसमें सामाजिक संस्थाओं से जुड़े लोगों की भी भागीदारी होगी। नाजनीन खुद 100 बार हनुमान चालीसा का पाठ करेंगी।

मुस्लिम महिला फाउंडेशन की पहल पर पीड़ित महिलाओं को ट्रेनिंग देकर रोजगार से जोड़ने के लिए संचार एवं सूचना प्रौद्योगिकी आधारित संसाधन केंद्र इसी महीने बनारस में खुलने जा रहा है। अपने ढंग का यह देश का पहला सेंटर होगा। इस योजना को ‘नई सुबह’नाम दिया गया है

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here